चौकीदार तेरी ऐसी चौकीदारी पर लानत है ~ इमरान प्रतापगढ़ी

political shayari

तेरे हर झूठे वादे पर मक्कारी पर लानत है, देश में फैली नफ़रत वाली बीमारी पर लानत है! देश लूटकर रोज़ लुटेरे नाक के नीचे भाग रहे, चौकीदार तेरी ऐसी चौकीदारी पर लानत है !! याद है इक जुमले पर जब क़ुर्बान गई है ये जनता, रूठी ! तो फर्जी़ ऑंसू पर मान गई है …

Read more