1

Maa Shayari, Maa Shayari in Hindi

Some Special Words About Maa Shayari

No one can love their batch more than friends’ mom Because when your child is in pain, the mother is most concerned about him and the mother is not able to sleep overnight. We have written some special Maa Shayari which is on mother, you can send it to your mother


Friends, I also loved my mother but my mother passed away as a child. Since then, I am living without a mother, I call Dushro’s mother as my mother and write Maa Shayari for them
If you too love your mother, then read my poetry and send it to your mother.

Apne Bacche ke liye Roti hai

Apne Baccho Ke Liye Roti Hai
Maa To Manta Se Bhari Hoti Hai

Jagkar Dekti Rehti Hai Mujhe
Vo Kaha Ek Pal Bhi Soti Hai

Mujhe Gusse Se Dekhti Hai Jab
Dil Me Mamta Bhi Bohut Hoti Hai

अपने बच्चो के लिए रोती है
मां तो मानता से भरी होती है

जागकर देखती रहती है मूझे
वो कहा एक पल भी सोती है

मुझको गुस्से से देखती है जब
दिल में ममता भी बोहोत होती है

Door Ghar Se Hu

Door Ghar Se Hu Waqt Bhari Hai
Maa Ki Mamta Abhi Bhi Jaari Hai

Karti Hogi Vo Intzaar Mera
Uski Mamta Mujhe Bula Ri Hai

Uske Saaye Me Chipke Rehna Hai
Jaan Maine Usi Pe Waari Hai

दूर घर से हूं वक़्त भरी है
मां की ममता अभी भी जारी है

करती होगी वो इंतज़ार मेरा
उसकी ममता मुझे बुला री है

उसके साए में छीप के रहना है
जान मैंने उसी पे वारी है

Vo Bure Waqt Maa Shayari

Vo Bure Waqt Me Bhi Sath Mere Chalti Hai
Uski Mamta Meri Taqdeer Badal Sakti Hai

Uske Saaye Se Agar Door Ho Gaya Yaaro
Rote Rote Bhi Meri Jaan Nikal Sakti Hai

वो बुरे वक़्त में भी साथ मेरे चलती है
उसकी ममता मेरी तकदीर बदल सकती है

उसके साए से अगर दूर हो गया यारो
रोते रोते भी मेरी जान निकल सकती है

Jab Vo Hasti Hai

Jab Vo Hasti Hai To Qadmo Me Ye Sansaar Hota Hai
Uski Mamta Me To Yaaro Alag Sa Pyar Hota Hai

Badi Kismat Se Milti Hai Kisi ko Maa ki Mamta Bhi
Jaha Mamta Nahi Hoti Vo Ghar Bekar Hota Hai

जब वो हस्ती है तो कदमों में ये संसार होता है
उसकी ममता में तो यारो अलग सा प्यार होता है

बड़ी किस्मत से मिलती है किसी को मा की ममता भी
जहां ममता नहीं होती वो घर बेकार होता है

Zindagi Dekh Kar

Zindagi Dekh Kar Muh Ko Mere Chidane Lagi
Thokaren Khayin To Phir Maa Ki Yaad Aane Lagi

Uski Mamta Ki Had To Dekhiye Mere Yaaro
Mai Gir Pada To Vo Mujhko Gale Lagane Lagi

ज़िन्दगी देख कर मुंह को मेरे चिढाने लगी
ठोकरें खाईं तो फिर मा की याद आने लगी

उसकी ममता की हद तो देखिए मेरे यारो
मै फिर पड़ा तो वो मुझको गले लगाने लगी

Ab To Khuda

Ab To Khuda Maa Baap Ko Hi Maan Jaaiye
Qadmo Me Hai Jannat Unhi Ke Maan Jaaiye

Kyu Dhundte Phirte Ho Tum Chain O Sukoon Ko
Ghar Me Jo Rhte Hein Unhe Pahchan jaaiye

अब तो खुदा माँ बाप को ही मान जाइये
क़दमों में है जन्नत उन्ही के मान जाइये

क्यों ढूंढ़ते फिरते हो तुम चैन ओ सुकून को
घर में जो रहते हैं उन्हें पहचान जाइए

Sochta Rehta Hu Maa Shayari

Sochta Rehta Hu Kya Man Bhi Kaha Lagta Hai
Maa Ke Qadmo Me To Ye Sara Jaha Lagta Hai

Dekhta Hu Mai Shubha Uth Ke Jo Surat Uski
Uske Chehre Me Mujhe Apna Khuda Lagta Hai

सोचता रहता हूँ क्या मन भी कहा लगता है
माँ के क़दमों में तो ये सारा जहाँ लगता है

देखता हू मै शुबहा उठ के जो सूरत उसकी
उसके कदमों में तो ये सारा जहां लगता है

Sari Aafat Shayari

Sari Aafat Meri Sar Apne Utha Leti Hai
Jab Mai Girta Hu To Sine Se Laga Leti Hai

Aisi Mamta Badi Muskil Se Mila Karti Hai
Jo Mujhe Dekh Kar Chup Chap Dua Deti Hai

सारी आफत मेरी सर अपने उठा लेती है
जब मैं गिरता हो तो सीने से लगा लेती है

ऐसी ममता बड़ी मुश्किल से मिला करती है
जो मुझे देख कर चुप चाप दुआ देती है

Hadsa Ye Bhi

Hadsa Ye Kabhi Khuda Na Kare
Kisi Bacche Ki Kabhi Maa Na Mare

Maa Se Milti Hai Jo Khushi Dil Ko
Us khushi Se Koi Juda Na Kare

हादसा ये कभी खुदा न करे
किसी बच्चे की कभी माँ न मरे

माँ से मिलती है जो ख़ुशी दिल को
उस ख़ुशी से कोई जुदा न करे

Kyaal Aaye Bhi Maa Shayari

Kyaal Aaye Bhi To Dil Pe Churi Lagti Hai
Maa Se Bichda Hu To Har Cheej Buri Lagti Hai

Is Qadar Toot Gaya Hu Maa Tere Bin Mai
Ab Tere Baad Ye Duniya Adhuri Lagti Hai

ख्याल आये भी तो दिल पे छुरी लगती है
माँ से बिछडा हो तो हर चीज बुरी लगती है

इस क़दर टूट गया हूँ माँ तेरे बिन मैं
अब तेरे बाद ये दुनिया अधूरी लगती है

Teri Mamta Ka Saaya

Teri Mamta Ka Saaya Hai Sar Par
Is Liye itni Khushi Hai Ghar Par

Jabse Maa Tune Ghar Sajaya Hai
Sari Khushi Tahar Gayi Dar Par

तेरी ममता का साया है सर पर
इस लिए इतनी ख़ुशी है घर पर

जबसे माँ तूने घर सजाया है
सारी ख़ुशी ठहर गयी दर पर

Kabhi Fareb Ka Chasma Maa Shayari

Kabhi Fareb Ka Chasma Utar Kar Dekho
Maa Ke Qadmo Me Zindagi Guzar Kar Dekho

Un Hasinao Ke Bhi Khuwaab Bhul Jaoge
Maa Ne Dekhe Hein Jo Sapne Sawar Kar Dekho

कभी फरेब का चश्मा उतार कर देखो
माँ के क़दमो मैं ज़िंदगी गुज़ार कर देखो

उन हसीनाओ के भी ख्वाब भुल जोगे
मां ने देके ह जो सपने सावर कर देखो

admin

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *